Home » , , , » बेटे ने अपनी ही माँ की चूत की चुदाई कर डाली

बेटे ने अपनी ही माँ की चूत की चुदाई कर डाली

ये चुदाई कहानी एक पंद्रह वर्षीय कालू की जिसने अपने झोपड़े में अपनी ही माँ की चूत की चुदाई कर डाली।पंद्रह साल का कालू अपने माँ-बाप और दो छोटे भाइयों के साथ मुंबई के झोपड़पट्टी में रहता था। उसका बाप दिन भर कचरा चुनता था और सारी कमाई दारू पर उड़ा देता था। उसकी माँ भी दिन भर दुसरे के घरों में बर्तन सफाई का काम करती थी और वो भी रात में दारु पी कर सो जाती थी। किसी तरह से घर चल रहा था। कालू भी कचरा चुन कर कुछ कमा लेता था। वो भी अपने माँ बाप की तरह अय्याश निकल गया था। जो कमाता था उसका वो सिगरेट और गुटका का सेवन करता था। वो अक्सर अपने दोस्त के घर पर ब्लू फिल्मे भी देखने लगा था। घर पर तो कोई रोकने-टोकने वाला था नहीं।

एक रात जब वो अपने दोस्तों के घर से ब्लू फिल्म देख कर अपने झोपडी में लौटा तो उसका ध्यान फिल्म के चुदाई वाले सीन पर ही था। वो अपने दोस्त के साथ उसके घर पर ही खाना खा कर आया था। घर पर पहुँचने पर उसने देखा कि बापू का कोई अता – पता नहीं है। उसकी माँ ने सिर्फ लो कट की ब्लाउज और पेटीकोट पहन रखी थी और वो दारू पी रही थी। उसकी ब्लाउज सामने से लगभग खुली हुई थी सिर्फ एक बटन के सहारे किसी तरह उसके स्तन को छिपाने का काम कर रहे थे. और उसकी पेटीकोट उसके जाँघों के काफी ऊपर तक चढ़े हुए थे. उसकी माँ का ये रूप कालू ने कोई पहली बार नहीं देखा था. कई बार तो उसने अपनी माँ को शराब के नशे में धुत हो कर अपने सभी वस्त्र खोलते हुए पूरी नंगी होते हुए देखा था. कालू के लिए अपनी माँ के खुले स्तन और चूत देखना कोई आश्चर्य की बात नहीं रह गयी थी. आज उसका फिर से अपनी माँ को नंगा देखने का मन करने लगा.आप ये कहानी हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसने अपनी माँ से पूछा – बापू कहाँ है?
उसकी माँ ने नशे में कहा – साला गया है अपने यारों के साथ मस्ती करने। कल आएगा।
कालू ने अपने सरे वस्त्र खोल दिए और सिर्फ अंडरवियर पहन कर अपनी माँ के पास लेट गया.
कालू की माँ ने कालू से पूछा – तू कहाँ गया था?
कालू – फिल्म देखने।
उसकी माँ ने नशे में कहा – कौन सी फिल्म देखने चला गया था? मुझे भी कहता मैं भी जाती तेरे साथ।
कालू – वो फिल्म तेरे देखने के लायक नहीं है.
उसकी माँ – क्यों? जब तू देख सकता है तो मैं क्यों नहीं?
कालू ने बेझिझक कहा – अब तुझे कैसे समझाऊं? उसमे नंगी औरतें और नंगे मर्द रहते हैं। औरतों के देखने लायक नहीं है। गंदे सीन होते हैं.
उसकी माँ – गंदे गंदे सीन का क्या मतलब?
कालू – मतलब नंगे लड़के और नंगी लड़की उसमे वही काम करते हैं जो तू और बापू रात में करते हैं।
उसकी माँ – ओ तो तू चोदा – चोदी वाली फिल्म देख कर आ रहा है..?
कालू – हाँ, चुदाई वाली फिल्म।
कालू जानता था कि उसकी माँ को ये बात पता है कि उसके आसपास के सभी बच्चे ब्लू फिल्म (चुदाई वाली फिल्म) देखते हैं।
माँ – अच्छा एक बात बता..क्या उसमे मर्द किसी औरत को चोदते हुए दिखता है क्या?
कालू – हाँ।
माँ- और क्या दिखाता है?
कालू का लंड खडा हो रहा था. उसने अपने अंडरवियर के ऊपर से ही आने लंड को दबाते हुए कहा – उसमे मर्द औरत की चूची को खूब चूसता है. लड़की की सिसकारी निकल जाती है.
माँ – हिरोइन की चूची भी देखते होगे।
कालू – हाँ, हिरोइन पूरी तरह से बिना कपडे के रहती है. सब कुछ दिखता है।
माँ- बड़े बेशर्म लोग होते हैं ना सिनेमा वाली लड़की-लड़का.
कालू – अरे नहीं माँ. इसमें बेशर्मी कैसी? यही तो मजा है. वैसे एक बात पूंछू तेरे से?
माँ – हाँ पूछ ना.
कालू – लड़की की चूची चूसते समय लड़की और लड़का सिसकारी क्यों भरती है?
माँ – लड़का लड़की के चूची के निपल को जब चूसता है तो लड़की की काफी मजा आता है इसलिए वो मजे से सिसकारी भरने लगती है इसलिए लड़का भी सिसकारी भरने लगता है.
कालू – लेकिन जब बच्चा अपनी माँ का दूध पीता है तो उस समय वो माँ सिसकारी क्यों नहीं भरती?
माँ – अरे बच्चे के द्वारा निपल चुसना और बड़े के द्वारा निपल चूसने में काफी फर्क है.
कालू – फर्क कैसा?
माँ – देख जब तू बच्चा था और जब मेरा दूध पीता था तो मुझे कुछ नहीं होता था लेकिन अब तू मेरी निपल चुसेगा तो तो मेरे अन्दर से भी सिसकारी निकलने लगेगी. और तू भी सिसकारी भरने लगेगा.
कालू – मुझे यकीन नहीं होता.
कालू की माँ ने एक झटके में अपना ब्लाउज खोल दिया। अन्दर ब्रा पहनी नहीं थी इसीलिए एक झटके में उसकी दोनों चूचियां कालू के सामने आ गयी। कालू ने इस से पहले भी कई बार नशे में धुत माँ के चूची और चूत को देख चूका था। बल्कि कई बार तो नशे में धुत उसके माँ – बाप रात में चुदाई करते थे तो कालू की आँख खुल जाती थी और वो अपने सामने ही माँ की चुदाई देखता था।
माँ – आ चूस मेरी निपल, देख तुझे सिसकारी होती है कि नहीं ?
कालू अपनी माँ की चूची पकड़ के दबाने लगा। उसकी माँ को काफी मज़ा आ रहा था।
माँ – आ चूस मेरी निपल, देख तुझे सिसकारी होती है कि नहीं ?
कालू अपनी माँ की चूची पकड़ के दबाने लगा। उसकी माँ को काफी मज़ा आ रहा था।

कालू – तेरी चूची भी बड़ी है। तेरी चूची भी हिरोइन की चूची की तरह एकदम कड़क है.
माँ – अब चूस ना .
कालू अपनी माँ की चूची को अपने मुंह में दबाया और मजे ले ले चूसने लगा. उसकी माँ तो मस्ती में पागल हुयी जा रही थी. उसकी चूत भी गीली होने लगी. उधर कालू को भी काफी मजे आ रहे थे. उसने अपनी माँ की दोनों चूची को चूस चूस कर पूरी तरह गीला कर दिया. वो अपनी माँ की चूची का निपल को अपनी जीभ से इस तरह चाट रहा था मानो आइसक्रीम हो. वो अपनी माँ के गले से ले कर दोनों चूची के हर कोने कोने को चूसने में लीन हो गया. और सिसकारी भी भरने लगा.आप ये कहानी हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
माँ – चुदाई वाली फिल्म देखता है तो तेरा मिजाज़ तो गर्म हो जाता होगा रे। तू फिर क्या करता है? कहीं रंडी के पास तो नहीं चले जाता है तू?
कालू – नहीं माँ, गर्म होता हूँ तो अपने लंड का पानी निकाल देता हूँ।
माँ – कैसे ?
कालू – हाथ से मुठ मार कर।
माँ – तू कब से मुठ मारने लगा है?
कालू – लगभग 2 साल से मुठ मार रहा हूँ.
माँ- खोल के दिखा तो अपना लंड. ज़रा मैं देखूं कि कितना बड़ा है?
कालू ने एक झटके में अपना अंडरवियर खोल दिया और माँ के सामने नंगा हो कर अपने हाथ में अपना 9 इंच का लंड पकड़ कर दिखाने लगा और बोला – देख, है कि नहीं बड़ा.
माँ – हाँ रे, तेरा लंड तो सच में बड़ा हो गया है और उस पर बाल भी मस्त हैं.
कालू – तेरी चूत पर भी तो बड़े बड़े बाल हैं.
माँ- हाय राम, तूने मेरी चूत कब देख ली रे?
कालू – जब तू दारु पी के बिना कपड़ों के सो जाती है तो मैंने तो कई बार तेरी चूत देखी है। यही नहीं जब बापू तेरी चुदाई करता है तो मैंने भी कई बार देख लिया है।
माँ – हाय राम, तू तो बड़ा हरामी हो गया है रे। जब तू मेरी चुदाई देखता है तो तू क्या करता है रे?
कालू – मेरा लंड भी खड़ा हो जाता है और मैं भी उसी समय अपना लंड का मुठ मार कर माल निकाल लेता हूँ।
माँ – आज तो तूने फिर से चुदाई वाली फिल्म देखा है और मेरी चूची भी देख लिया है तो तेरा मिजाज़ तो और भी गर्म हो गया होगा? तो क्या अब मुठ मारेगा?
कालू – हाँ, मारना तो पड़ेगा ही. नहीं तो लंड फट जायेगा. जब तू गरम होती है तो तू भी तो यही करती होगी ना?
माँ – हाँ.
कालू – माँ, फिल्म में तो लड़का अपने मुंह से लड़की की चूत भी चूसता है और उसके चूत का माल भी पी लेता है.
माँ- हाय , तब तो लड़की को कैसा लगता होगा रे?
कालू – बापू जबतेरी चूत चाटता है तो तुझे कैसा लगता है?
माँ – हाय, उसने तो कभी मेरी चूत चुसी ही नहीं, हमेशा मुझसे ही अपना लंड चुसवाता है.
कालू – तब तू अपने चूत के माल का क्या करती है?
माँ – क्या करुँगी? पोंछ देती हूँ. या बह जाने देती हूँ.
कालू – क्या आज तक बापू ने कभी भी तेरी चूत का रस नहीं पिया है?
माँ – नहीं रे. मेरा ये सपना सपना ही रह गया कि कभी तेरा बापू मेरी भी चूत चुसे.
कालू – माँ , आज मैं तेरा ये सपना पूरा करूँगा. तब तुझे अहसास होगा कि जब एक मर्द एक औरत का चूत चूसता है तो औरत को कितना मजा आता है.
माँ – तू मेरी चूत का रस पिएगा?
कालू – हाँ माँ,
कालू की माँ ने एक झटके में अपना पेटीकोट खोल कर बिलकुल नंगी हो गयी।
कालू ने अपनी माँ की चूत को अपने मुंह में भर लिया और जीभ को अन्दर डाल दिया. उसकी माँ की तो साँसे फूलने लगी. इतना मजा तो उसे आज तक कभी नहीं आया था. पांच मिनट तक कालू ने अपनी माँ की चूत चुसी. उसके बाद उसकी माँ का बदन अकड़ने लगा और उसके चूत ने रस छोड़ने का सिग्नल दे दिया. उसकी माँ की आँखें कास के बंद हो गयी और दबी दभी आवाज में बोली – कालू बेटा , मेरा चूत का रस निकलने वाला है.
कालू ने कहा – निकलने दे माँ , आज मैं तेरे रस को पिऊंगा.आप ये कहानी हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
तभी उसकी माँ के चूत से सफ़ेद सफ़ेद माल निकलने लगा . कालू ने बड़े ही प्रेम से उस रस को अपने मुंह में ले लिया. वो अपनी माँ की चूत को अच्छी तरह से चाट चाट के साफ़ कर दिया.
उसकी माँ को काफी मजा आया. इसके बाद कालू अपने माँ के नंगे बदन पर पूरी तरह चढ़ गया और अपना मुंह अपनी माँ के होठो पर लगाया और और अपना लंड माँ के चूत पर घस रहा था.
कालू – माँ , अब तू मेरा लंड पकड़ कर देख ना मस्त है कि नहीं?
माँ ने उसके लंड को पकड़ कर दबाने लगी और कही – हाँ रे, तेरा लंड तो एकदम कड़क जवान हो गया है.
उसके बाद कालू ने अपनी माँ की चूत को फिर से सहलाया और उसके चूत के छेद में ऊँगली डाल कर पूछा – माँ , इसी छेद में बापू तुझे चोदता है?
माँ – हाँ रे, इसी छेद में लंड डाला जाता है.
कालू – आज मैं तेरी छेद में लंड डालूं?
माँ – नहीं रे, पागल हो गया है क्या? माँ को चोदेगा?
कालू ने अपनी माँ की चूत में ऊँगली अन्दर बाहर करते हुए कहा – माँ, जब इतना हो ही गया है है तो थोडा और सही.
माँ – नहीं रे, अपनी माँ को चोदना अच्छी बात नहीं.
लेकिन कालू अब मानने वाला नहीं था. उसने अपने लंड को अपनी माँ के चूत में कस कर सटाते हुए कहा – जब तेरे बुर में मैंने अपना जीभ घुसा ही दिया है तो लंड में क्या रखा है?
माँ ने कहा – तेरे बापू क्या कहेंगे?
कालू – अच्छा ठीक है…ज्यादा नहीं घुसाऊंगा. बस लंड की टोपी को अन्दर जाने दे.
माँ- ओह ,अब तू इतनी जिद कर रहा है तो ठीक है..थोडा ही अन्दर घुसाना ….पूरा लंड अन्दर मत घुसाना.
कालू ने बिना एक पल की देर किये अपनी माँ के टांगों को फैला दिया। और अपनी माँ की चूत के मुंह पर अपना लंड को रखा और हल्का सा दवाब डाला. कालू को बड़ा ही मज़ा आया.
माँ- हाँ अब देख, इस से ज्यादा अन्दर मत घुसाना.
माँ- हाँ अब देख, इस से ज्यादा अन्दर मत घुसाना.

लेकिन कालू का पौरुषत्व जाग गया था. और उसकी माँ की चूत काफी चिकनी हो चुकी थी. उसने हल्का सा दम लगा कर अपना लंड को पूरी तरह अपनी माँ के चूत के अन्दर डाल दिया और उसे पेलने लगा। उसकी माँ की हालत खराब हो गयी। उसका सारा नशा गायब हो गया। अब उसे अहसास हो रहा था कि उसका खुद का बेटा उसे चोद रहा है। हालांकि जब तक वो समझती और प्रतिरोध करती तब तक काफी देर हो चुकी थी। उसका बेटा उसके चूत में धक्के मार रहा था। थोड़ी देर शर्माने के बाद उसकी माँ की भी झिझक खतम हो गयी।आप ये कहानी हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसने सोचा – अब जब लंड डाल ही दिया है तो जम के चुदाई का मज़ा ले लेना चाहिए। अब वो भी अपने बेटे का साथ दे रही थी। थोड़ी ही देर में कालू ने अपनी ही माँ के चूत में माल उगल दिया। उसकी माँ भी दोबारा झड चुकी थी। वो भी काफी आनादित थी. काफी दिनों के बाद उसने काफी मन से अपनी चुदाई करवाई थी.अब वो नहीं चाहती थी कि इस काण्ड पर उसका बेटा शर्मिंदा होए, इसलिए उसके बाद भी उसकी माँ ने कालू के साथ 3 बार सेक्स किया ताकि कालू को लगे कि इस में माँ की भी मर्जी थी।उस रात के बाद कालू जब भी ब्लू फिल्म देख कर आता अपनी माँ को जरुर चोदता था।कैसी लगी मां बेटे की सेक्स स्टोरी , शेयर करना , अगर कोई कालू मां की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/PromilaRani

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter