चचेरी बहन की कुंवारी चूत की चुदाई

आज जो चचेरे भाई बहन की चुदाई कहानी बताने जा रहा हू वो मेरी चाचा की बेटी की चोदने की कहानी हैं , आज से पहले मैंने कभी भी किसी के साथ सेक्स नहीं किया, बस चूची दबाया, कभी मेले में कभी बस पर कभी भीड़ भाड़ इलाके में और हां इस बार मैंने अपनी भाभी के चूची में रंग लगाया होली के दिन, पर आज तो मैंने अपनी चाचा की बेटी को चोदा, कैसे वो रो रही थी कह रही थी भैया छोड़ दो प्लीज दर्द हो रहा है, देखो देखो मेरे बूर से खून भी निकलने लगा है, मुझे भी उसके छोटे से बूर के छेद में लण्ड घुसाने में काफी कठिनाई हुयी थी तभी मैंने लण्ड में थूक लगा के चाचा की बेटी की बूर में घुसाया था.


मेरे चाचा और चाची की एक ही संतान है रिंकी, वो मेरे से ३ साल की छोटी है, एक दिन मेरे चाचा और चाची दोनों पटना गए हुए थे डॉक्टर से इलाज करवाने के लिए, मेरे घर में मैं ही हु, पापा मम्मी दोनों टीचर है वो स्कूल चले गए थे, मेरी उस दिन छुट्टी थी, मेरी बड़ी बहन उसकी शादी हो चुकी है वो ससुराल में ही रहती है, अक्सर मैं अकेले ही रहता हु, माँ पापा चार बजे आते है, करीब ११ बजे रिंकी आई बोली कुणाल भैया, शाम को आप मार्किट जाओगे, मेरा मोबाइल रिचार्ज करवा देना, फेसबुक पे चैट करनी है. तो मैंने पूछा क्या बात है आजकल बड़ा फेसबुक पे चेट करने लगी है, कौन है ? बोली मेरी सहेली पूजा, मैंने कहा ओह्ह्ह, मुझे रिंकी काफी सेक्सी लगती थी, मैंने उसको कई बार चुदाई के लिए परपोज़ करने का मन किया था पर डर लगता था कही वो मेरी माँ पापा को या वो अपने माँ पापा को ना बता दे इस वजह से मैं कभी कह नहीं सका, पर आज लगा की मैं चचेरी बहन की चुदाई का परपोज़ कर ही दू. आप ये कहानी हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने रिंकी को बैठने के लिए कहा और इधर उधर की काफी बाते करने लगा, वो जब नार्मल हो गई तो मैंने बड़ी हिम्मत करके, कहने की कोशिश की पर साँसे तेज तेज चलने लगती. मैंने कहा रिंकी आज मैं तुमसे कुछ मांगना चाहता हु, क्या तुम मुझे दोगी? वो बोली क्या चाहिए बोलो अगर मेरे पास होगा तो मैं दे दूंगी, मैंने कहा हां तुम्हारे पास है, वो सकपका गयी और बोली कुछ ऐसा वैसा मत मांगना, मैंने कहा देखा तुमने मना कर दिन ना, वो बोली हां कुछ चीजे देने की नहीं होती है सबको, फिर वो बोली ठीक है तुम किसी को बोलना नहीं और धीरे धीरे करना. अब क्या था मे तो पागल हो गया , मेरा सपना आज अपने आप पूरा होने बाला हे. मे उसकी तरफ पलटा ओर उसकी लिप्स को किस कर ने लगा रिंकी ने भी अच्छी से रेसपॉंड्स कर रही थी मे ने पहेले उसकी उपर बाला लीप को अपने दोनो लिप्स से चूसने लगा.

फिर मे ने उसकी नीचे बाला होठो को चूसने लगा उसकी होठो को अंदर तरफ ओर बाहर तरफ अपने जीभ से चाटने लगा रिंकी आँख बंद करके एंजाय कर रही थी मे ने अपने जीभ को उसकी मुह अंदर ले के उसकी जीभ को सहलाने लगा उसे करीब 5मिनिट के बाद मे ने अपना जीभ निकाला इतने में वो काफी सेक्सी और गरम हो चुकी थी, अब वो मुझे भी सहलाने लगी, अब मैंने उसके चेहरे को चाटने लगा, उसकी आँख बंद थी तो मे ने उसकी आँख की उपर भी चाटने लगा. रिंकी फ्रॉक पहनी हुई थी तो मे ने उसकी पीछे की चैन खोल्दी ओर फ्रॉक को पूरा निकल दिया . आब रिंकी मेरी बहन मेरे सामने केबल पेंटी मे लेटी हुई थी.मैंने बहन को अपनी बाहों में भरकर बहन की चूच को चाटने लगा, और मैं कभी ऊपर कभी वो ऊपर दोनों एक दूसरे से लिपटने लगे.
मैंने उसके बूब को जीभ से चाटने लगा अब तो उसके मुह से ओह ……. ओह ……. आ …….. आ ……. अयाया की अबाज निकलने लगी तो मे ने टीवी का साउंड बढ़ा दिया ओर मे ने अपना टी -शर्ट और पेंट भी उतार दिया उसकी बूब के पास जाके चाटने लगा चाटने चाटते मे उसके गले तक जाता फिर उसकी बूब को होते हुए पेट पे आता फिर नीचे आके पेंटी के बाहर से ही बहन की चूत की स्मेल को एंजाय करता. फिर दूसरी बूब को चाटता , कभी कभी निपल को दाँत से रगड़ दे ता तो कभी उंगली के बीच रख कर ज़ोर से दबाता फिर चाटता रिंकी खाली आँख बंद करके सिसकिया ले रही थी. फिर मे ने बहन की पेंटी उतार दी ओर उसकी चूत को हाथ से सहलाने लगा तो रिंकी तड़प उठी बोलने लगी की भैया मे तो पागल हो रही हु उसकी सिसकिया और अबाज बढ़ने लगी फिर मे ने अपनी चेहरा बहन की चूत के पास ले गया ओर बहन की पैरो को फेला के उपर उठा दिया ओर नीचे एक तकिया दे के चाटना चालू किया. आप ये कहानी हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
बहन की चूत मे बहुत ही छोटे छोटे बाल थे मे अपना जीभ उसकी पुसी लिप्स के बीच रख के उपर ले जाता उसकी क्लाइटॉरिस तक फिर नीचे ले आता उसकी गांड तक से 10 मिनिट करता रहा . रिंकी 10मिनिट के अंदर 2 बार झड़ चुकी थी मेरा चेहरा नाक मुह उसकी चूत की पानी से सरबर हा गया था . बहन की चूत का पानी चूत से बहके गांड से होते बाह रहा था फिर मे ने अपना लॅंड उसकी चूत की पानी पोछने लगी .
मेने बहन की पेर को पूरा उपके तरफ करके अपने लॅंड का सूपड़ा को बहन की बूर के बीचो बीच तक होरीज़ोंटलील रगड़ने लगा करीब पाँच मिनिट बाद बहन की फिर से पानी निकल गया इसबार सारा पानी मे लॅंड मे गिरा फिर मैंने देर ना करते हुआ लॅंड उसकी चूत पे राखी और धक्का लगाया पर गया नहीं, फिर मैंने अपने लण्ड पे थोड़ा थूक लगा के और भी गिला किया क्यों की मुझे पता था रिंकी आज तक नहीं चुदी थी क्यों की उसके चूत की झिल्ली साफ़ साफ़ दिख रही थी, आप ये कहानी हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मे ने अपना पूरा लॅंड बहन की चूत की अंदर घुसा दिया ओर ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा उसकी मूह से ओह… कर रही थी उसके बाद क्या था दोस्तों मेरा लण्ड उसके बूर में सपासप जा रहा था, फच फच की आवाज आ रही थी, लण्ड पे थोड़ा खून भी लगा हुआ था क्यों की रिंकी का सील टूट चूका था, मैंने करीब आज तीन घंटे तक रिंकी को चोदा, अभी तुरंत ही मैं आ रहा हु, क्यों की मेरी मम्मी पापा आने बाले है, आशा करता हु की रिंकी अब रोज मुझसे चुदवायेगी,कैसी लगी चचेरी बहन की चुदाई स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी चचेरी बहन की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SapnaKumari

1 comments:

Bookmark Us

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter