loading...
loading...
Home » , , , , , , , » कुत्ते से चुदाई - देसी एनिमल सेक्स कहानियाँ

कुत्ते से चुदाई - देसी एनिमल सेक्स कहानियाँ

ये जानवर के साथ औरत की सेक्स कहानी,कुत्ते के साथ लड़कियों की चुदाई की हैं,कैसे कुत्ते ने औरत को चोदा और लड़कियों ने अपने कुत्ते से चुदवाया. पेटीकोट जैसे ही उठा के बकरी की तरह बनी मोती सीधे पीछे से उसकी चूत चाटने लगा और वो मस्ती लेने लगी। उसकी आंखे एक्दम से बंद होने लगी थी। तभी मोती का 9 इन्च का कटीला लंड निकला, देशी कुत्तों का लड कंटीला होता ही है और उसने अपना लंड उसके चूत के पास कर दिया और उसकी पीठ का सहारा लेकर खड़ा हो गया। जैसे ही मोती ने अपना लंड उसकी चूत में डाला वो चिल्ला उठी। मोती ने तुरत ही रफ़्तार पकड़ ली और लंड पेलने लगा। लेकिन कुत्ते का लंड पूरा एक बार में कैसे अंदर जा सकता है ? सो मोती अपने धक्के में जान लगा रहा था। उस रंडी को बहुत मजा आ रहा था, कहां उसके पति का छोटा सा लंड और कहां कुत्ते का बड़ा गदह लंड। और तभी मेरी आंखे आश्चर्य से फ़टी रह ग़ईं। मोती ने अपना लंड जैसे ही खीचा उसके चूत से फ़चाक से पानी का फ़व्वारा निकला और कुत्ते की आंखो को और मुंह को भिगोता हुआ जमीन पर बिखर गया।

कुत्ते से चुदाई
कुत्ते से चुदाई - देसी एनिमल सेक्स कहानियाँ

मोती को गुस्सा आ गया मानो वो एक ट्रेंड ब्वायफ़्रेंड हो। उसने अपना लंड उसकी गांड में ठेल दिया और वो चिल्लाने लगी हट ह्ट लेकिन आज कुत्ते को चूत का भूत चढा था और उसने लगभग आधे से ज्यादा लंड उसकी गांड में डाल दिया। धक्के लगाने लगा। उसकी गाँड से फ़ट्ने की आवाज साफ़ आ रही थी। लेकिन उस रंडी को पता नही कितना चुदवाना था। और तभी मोती अपना लंड उसकी गांड से बाहर निकाले बिना ही घूम के पलट गया और आगे तो आप जानते ही हैं कि जब कुत्ता कुतिया को चोदते समय पलट जाता है तो क्या नजारा होता है? हरिया की बीबी अब बिल्कुल हलाल होने वाले बकरे की तरह डकारने लगी और चिल्लाने लगी। अब मैंने सोचा क्या करूं क्या करुं तभी मुझे उसकी बेटी आती दिखाई दी। मैंने मन ही मन एक योजना बनाई और दोनों को आज ही चोदने का प्लान बनाया।ये चुदाई,हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। जैसा कि आप सब जानते हैं कि कुत्ते का लंड फ़ंसने के बाद निकलता नही है तो फ़िर उसकी जान पर बन आयी थी और वह बचाओ बचाओ करने लगी। मेरी नजर उसकी बम्माट जवानी पर पहले से ही थी और इसलिए मैं उसे बचाने का उपाय सोच रहा था कि अचानक से उसकी बेटी भी आ गई और यही मुझे अपना राज बाबा का किरदार निभा कर दोनो ही चूतों का बिरयानी बना देना था।

अपनी मां के गांड में कुत्ते का लंड फ़ंसा देखकर वो जोर से चिल्लाने ही वाली थी कि मैंने उसका मुंह दबा दिया। अबे मरवाओगी क्या अभी एक कुत्ता पेल रहा है सारे गांव वाले जान जायेंगे तो तेरी मां का कुतिया बना के चौराहे पर पेल देंगे। बात बेटी की समझ में आ गई मुझसे बोली अब क्या करें मैंने कहा कुत्ता का लंड है एक गांड में फ़ंसा है तो जब तक दूसरी कुतिया का मसाले दार गरमा गरम चूत नही देखेगा बाहर नहीं आने का। कहने लगी तो मैं क्या करुं? मैंने कहा मेरी जान!ऐसा है कि जल्दी से अपनी सलवार उतारो। उसने जैसे सलवार उतारनी शुरु की मेरे लंड में उफ़ान आना शुरु हो गया। उसकी कमर एक्दम ऐसी थी जैसे खुद किसी कलाकार ने बनायी हो। पेट के भूरे रोंयें ऐसे लग रहे थे जैसे सुनहरे धान की बालियां हों। और उसकी घाटी जैसी चूत तो हिमालय की संकरी कंदराओं जैसी दिख रही थी। इस नजारे को देख कर मैं दंग रह गया।ये चुदाई,हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। जब उसने अपनी सलवार उतारी तो कहा अब मोती कुत्ते के सामने कुतिया बनकर अपनी चूत उसके मुंह के आगे करो इस साले को मसाले दार चूत की आदत लगी हुई है। जैसे ही उसने मोती के सामने अपनी क्वारी चूत की, मोती अपने लंड की परवाह किये बिना उसकी चूत चाटने लगा। हद थी इस कुत्ते की भी, मेरा आईडिया काम कर गया। मैंने कहा कि अब जरा आगे पीछे अपनी गाँड मटकाओ जिससे की मोती जरा हिले डुले। जैसे ही उसने गांड मटकानी शुरु की मोती ने अपना लंड हरिया की बीबी मतलब उसकी मां के गांड से निकालने की कोशिश तेज कर दी और वो चिल्लाने लगी अरे चूतजली तेरे करम फ़ूटें। तभी खचाक से मोती ने अपना लंड खीच लिया और उसके गांड का लाल लाल भाग बाहर तक निकल गया।

अब मोती के मुंह क्वारी चुत का रस लग गया था। वो जोर जोर से चूसे जा रहा था जैसे उसकी चूत को सैंडविच बनाके खा जाएगा। लेकिन मैं अब मोती को चांस देने वाला नही था और मैंने मोती को हटा दिया वो फ़िर से उसकी मां की चुत चाटने लगा। अब मैंने हरिया की बेटी को बकरी बना दिया और कहा कि अपनी कमर जरा उपर की तरह निकाल। उसकी कमर के कसाव गजब के थे, दोनों चूतंडों की घाटियां इतनी सुडोल और कमाल की थीं कि मेरे लंड में खून उतर आया सीधा फ़ूल कर आठ इंच का हो गया और कसमसाने लगा। क्वारी चूत चोदने का मेरा सपना सच होने वाला था।ये चुदाई,हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। और मैंने उसकी मां को कहा की वह उसकी चूत के नीचे अपना मुंह लगा ले फ़िर मैंने उसके चूंचे दबाने शुरु किये और अपना लंड उसकी चूत में उतारने लगा। उसकी बुर की झिल्ली अभी फ़टी नही थी और इसलिए वह् सिसिया गई। मैंने उसकी मां को कहा कि साथ साथ नीचे से वह उसकी चुत चाटती रहे। उसकी मां ने ऐसा ही किया लेकिन मोती अभी भी उसकी चूत चाट रहा था। मैंने अपना थूक उसकी गांड और चूत पर मल दिया और अपना लंड एक ही झटके में पेल दिया। वह बकरी की तरह चिचिया उठी और तभी मैंने स्पीड पकड़ ली और वह आ!!ह उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़!! सीसी!! करने लगी।कभी मैं उसकी चुत से निकाल कर अपना लंड उसकी मां की मुंह में दे देता और कभी उसकी फ़ट चुकी क्वारी चुतमें और अचानक से उसके चूत से पानी बहने लगा। तभी मैं भी आह्ह्ह्ह! आह्ह्ह्ह करके झड़ गया और उसकी मां मेरे लंड और अपनी बेटी की क्वारी चुतका पानी पीकर मेरे सुपाड़े को चट कर गई।ये चुदाई,हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने मोती को देखा जो ललचाई नजरों से क्वारी चूत की तरफ़ देख रहा था। मैंने कहा ले मोती अब तेरी बारी तू भी पार हो जा। और इस तरह से मेरे एहसान तले दोनों मां बेटी दब चुकी थीं। मेरा काम अब धडल्ले से चलने लगा।कैसी लगी कुत्ते से सेक्स स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई कुत्ते से माँ की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब ऐड करो Facebook.com/janwar ka lund ki pyasi aurat

1 comments:

loading...
loading...

Sex kahani,xxx kahani,bhai behan ki xxx sex,baap beti ki sex,devar bhabhi ki sex

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter