Hindi sex kahani,chudai,सेक्स की कहानी

हिंदी सेक्स कहानियाँ, Chudai Kahani, सेक्स कहानी, चुदाई की कहानी, hindi sex kahani, Best hindi sex stories, New sex story, Brother sister sex indian xxx kahani, Mom son sex hindi story, Baap beti ki sex kahani, Devar bhabhi ki sex romance xxx kamasutra kahani, Maa bete ki chudai kahani with sex photo, Hindi sex kahani with chudai ki hot pics

कुंवारी लड़की कि चुदाई कहानी

कुंवारी लड़की कि चुदाई Hindi Sex Kahani, चूत की सील तोड़कर चुदाई Hot Kahani, कुंवारी चूत की चुदाई Xxx Desi kahani, चुदाई कहानी, यौन कहानी, अन्तर्वासना की कहानी, देसी कहानी, मस्तराम की कहानियाँ, कामसूत्र की सेक्सी कहानियाँ, अपने घर के नीचे के हिस्से को किराये पर दिया हुआ है। वहाँ पर तीन परिवार रहते हैं।हमारे नीचे वाले बाथरूम के ऊपर तक दरवाजा नहीं है इसी लिए मैं उसके गोरे गोरे मलाई जैसे चूचों के दर्शन कई बार कर चुका हूँ। लेकिन उसकी मेरे साथ सेट्टिंग नहीं हो सकती थी।अब बात तीसरे परिवार की, उसमें पांच लोग हैं आदमी-औरत उनके दो 10-12 साल के दो लड़के और एक 17 साल की लड़की जिसका नाम प्रीति है। प्रीति का रंग सांवला है लेकिन फिगर का क्या कहना, चूचे एकदम तने हुए। यह तो थी जान-पहचान ! अब आता हूँ कहानी या यों कहो की आपबीती पर। प्रीति बारहवीं क्लास में पढ़ती है। वो रोज शाम को कपड़े सुखाने छत पर आती है। सेक्स कहानी एक दिन मेरी मम्मी ने कहा- प्रीति आई थी, वो बोल रही थी कि उसने कंप्यूटर सीखना है।
मैं मन ही मन खुश होने लगा। वो शाम को 7.00 बजे कंप्यूटर सीखने के लिए आई। मैं उसे कंप्यूटर सिखाने लगा वो मेरी दांई और बैठी थी इसलिए कभी कभी जानबूझ कर मैं माउस चलते समय उसके वक्ष से अपनी कोहनी लगा देता।उसने कंप्यूटर पर लिख दिया- मनीष आई लव यू। सेक्स कहानी मैंने उससे पूछा तो उसने बताया कि मनीष उसकी क्लास में पढ़ता है।  मैंने उससे बोला- मैं इसके बारे में तेरी मम्मी को बताऊँगा।  वो मुझसे कहने लगी- आपको इससे क्या मिलेगा? लेकिन मैं फंस जाऊँगी, मैंने तो गलती से लिख दिया, मैं अब मनीष से प्यार नहीं करती।  फिर उसकी मम्मी ने बुला लिया और वो चली गई।अगले दिन उसने ऊपर छत पर जाते समय मेरे कमरे में एक पर्चा फेंक दिया। उसमें लिखा था कि मैं उसकी मम्मी से शिकायत न करूँ, और वो रात को कंप्यूटर सीखने आएगी।  ये चुदाई हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं शाम को उसका इंतजार करने लगा, वो 7.00 बजे आ गई। सेक्स कहानी वो मुझसे पूछने लगी कि क्या मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।  तो मैंने उसे न में जवाब दिया। उसने मुझे हमारी गली की लड़कियों के चक्करों के बारे में बताया।  उसने बोला- न तो आप किसी से प्यार करते हैं और न ही मैं। मुझे लगा कि उसका इशारा मेरी ओर था। तो मैंने उसे आई लव यू बोल दिया। उसने शरमाते हुए हाँ कर दी। और इस तरह से हमरी प्रेम कहानी शुरू हो गई।  जब भी वो छत पर जाने लगती वो मुझसे मिलने आ जाती। कुछ दिनों के बाद मैंने उसके गाल पर चुम्बन कर लिया। मेरी बहन एक साल से होस्टल में रहती थी और मम्मी पापा का भी विचार बन गया पुणे रहते रिश्तेदारों से मिलने का। मेरे कॉलेज शुरु होने वाले थे इस लिए मैंने जाना रद्द दिया। वो दो हफ्ते के लिए जा रहे थे।  प्रीति और उसका परिवार रोज़ रात को सोने के लिए छत पर आते थे। मैंने प्रीति को बोल दिया रात को नीचे मुझसे मिलने के लिए आये।वो रात के करीब सवा एक बजे मुझसे मिलने आ गई। मैंने उसे अन्दर बुलकर दरवाजा बंद कर लिया।मैं उसके गाल पर चुम्बन करने लगा,

फिर उसके होंठ चूसने लगा।उसने अपनी ऑंखें बंद कर ली, मैंने उसके वक्ष पर हाथ फिराया। तो उसने मुझे ऐसा करने से रोका।लेकिन मैं उसे समझाते हुए उसके चूचे दबाने लगा और वो गर्म होने लगी, मुझे जोर जोर के पकड़ने लगी।मैंने उसका कमीज उतार दिया। वो शरमा रही थी और अपने हाथों से अपने आप को छुपा रही थी।मैंने उसके हाथ फ़ैलाए और उसे अपनी बाहों में समां लिया। मैंने उसकी पजामी ब्रा और चड्डी उतार दी। और खुद तो मैं निक्कर में था मैंने उसे इसको उतारने के लिए कहा तो पहले तो उसने मना किया लेकिन मेरे कहने पर उसने उतार दी। सेक्स कहानी  फिर मैंने उसे बिस्तर पर लिटाकर चूमना चालू कर दिया। वो मदहोश हो रही थी, मेरे चूमते हुए उसने मुझे जोर से जकड़ लिया और उसकी चूत से पानी बहने लगा। ये चुदाई हिंदी सेक्स की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं उसका पूरा शरीर चूमने लगा, वो कहने लगी- प्लीज़ ! मेरी प्यास बुझा दो।उसने मुझे बताया कि वो पहले किसी लड़के के इतना करीब नहीं आई और इस पर मुझे विश्वास तब आया जब मैंने अपना 7 इंच का लंड उसकी कसी हुई चूत में डाला और उसकी चीखें निकल गई।मैंने अपनी रफ़्तार कम की और उसके होठों को चूसने लगा इससे वो थोड़ी शांत हुई। उसके बाद मैंने अपनी गति बढ़ा दी उसे भी मजा आने लगा और वो भी चूतड़ उठा कर मेरा लंड अपनी चूत की गहराई तक ले जाने लगी। जब उसकी चूत की दीवारे मेरे लंड को दबा रही थी तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।अगले 15 मिनट में वो दो बार अपना कामरस छोड़ चुकी थी। अब मेरी बारी थी, मैंने उसे कहा- मैं झड़ने वाला हूँ। तो उसने बोला कि वो प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती।तो मैंने अपना लंड निकाल कर उसके मुंह पर अपना पानी छोड़ दिया। उसके बाद मैंने 2 बार उसकी चूत और गांड भी मारी। यह मेरी जिंदगी का पहला सेक्स अनुभव था। अब हमें जब भी मौका मिलता है हम सेक्स जरूर करते हैं।कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी बहन की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना लंड की प्यासी बहन

The Author

देसी सेक्स कहानियाँ

हिंदी सेक्स कहानियाँ, देसी सेक्स कहानी, माँ के साथ सेक्स Chudai Story, बहन के साथ सेक्स Desi Kahani, भाभी की चुदाई Sex Kahani, माँ बेटे की सेक्स कहानी, बाप बेटी की सेक्स कहानी, कामसूत्र सेक्स कहानी, कामुकता स्टोरी, दीदी की चुदाई,
Hindi sex kahani,chudai,सेक्स की कहानी © 2018 Frontier Theme